NFT क्या हैं? | Nft Token क्या होता है ~ 2022 हिंदी में !

हेल्लो दोस्तों, क्या आप भी नही जानते हैं कि NFT क्या है या NFT Token Kya Hota Hai तो आज के इस लेख में आपको "नॉन फंजिबल टोकन" के बारे में पूर्ण जानकारी मिलेगी। इसलिए लेख के अंत तक साथ बने रहिये।

यदि आप भी इंटरनेट, टेक्नोलॉजी में रुचि रखते हैं। तो आपने भी कही न कही NFTs के बारे में अवश्य सुना होगा। इंटरनेट पर NFT आजकल काफी पॉपुलर हो रहा हैं। NFT बनाकर लोग ऑनलाइन लाखों, करोड़ो रूपये कमा रहे हैं।

Nft kya hai

इंटरनेट का फ्यूचर बदल रहा हैं। जिसमें Nft की भी महत्वपूर्ण भूमिका होगी। फिलहाल nft का शुरुआती दौर हैं। ऐसे में आप भी समझना चाहते होंगे कि NFT क्या होता हैं? इसलिए आज के इस लेख में हम NFT Explained in Hindi में करेंगे।

तो आइये जानते हैं।....


 🔎Table Of Contents



NFT क्या हैं - What Is NFT in Hindi

NFT यानी "Non Fungible Token" एक तरह का डिजिटल यूनीक असेट्स हैं। चलिये इसे आसानी से समझते हैं। हम अपनी दुनिया में अगर हमें कोई यूनिक आर्ट, या कोई ऐसी चीज जो यूनिक हो। तो हम उस Orginal यूनिक वस्तु को उसके मालिक से खरीद लेते हैं।

उदहारण के लिए मोनालिसा की पेंटिंग को ले लीजिए। मोनालिसा की पेंटिंग दुनिया भर में यूनीक हैं। अगर कोई इस पेंटिंग का डुप्लीकेट भी बना ले तो भी Original केवल एक ही रहेगा। जो इसके मालिक के पास होगी। इसे हम इसके मालिक से खरीद सकते हैं।

ये भी पढ़ें:- Strong Password कैसे बनाये?


इंटरनेट पर भी बहुत से फोटो, वीडियो, Gif, म्यूजिक, ट्वीट्स, आर्ट, गेम इत्यादि वे सभी डिजिटल चीजें जो यूनिक हैं। इन्हें भी किसी ने बनाया है। इनके भी कोई मालिक हैं। लेकिन इंटरनेट पर यदि लोगो को कोई फोटो, वीडियो, आर्ट आदि यूनिक लगता है। उन्हें पसंद आता हैं। तो वे झट से किसी तरीके से उसकी कॉपी डाऊनलोड कर लेते हैं।

ऐसे ही इंटरनेट पर सभी लोग करते हैं। इससे इसकी ढ़ेर सारी कॉपियां सभी लोगो के पास चली जाती हैं। जिसके कारण इसमें Original यूनिक असेट्स और उसके मालिक को ढूंढना मुश्किल हो जाता हैं। ऐसे में इंटरनेट की दुनिया मे Nft हमारी सहायता करती हैं।

वो कैसे?
चलिये समझते है।...


NFT का मतलब क्या होता हैं?

NFT का मतलब "नॉन - फंजिबल टोकन" होता हैं, नॉन - फंजिबल उन चीजों को कहा जाता है। जो खुद में यूनिक हो। जिसे किसी से रिप्लेस नही किया जा सकता हैं। जैसे मोनालिसा की पेंटिंग हो, या ट्विटर के फाउंडर Jack Dorsey का पहला ट्वीट खुद में यूनिक हैं। इन्हें किसी अन्य चीजों से बदला नही जा सकता हैं।

अब बात आती है। NFT में Token का मतलब क्या हैं। तो दोस्तों, इंटरनेट पर इन नॉन - फंजिबल यूनिक आर्ट्स ( जैसे:- फोटो, वीडियो, Gif आदि) के साथ एक टोकन जोड़ दिया जाता हैं। जिसमे उसके मालिक का नाम जुड़ जाता हैं।

NFT के आने से अब किसी Original यूनिक डिजिटल असेट्स और उसके मालिक को आसानी से पता किया जा सकता हैं। जिससे अब कोई ओरिजिनल यूनिक असेट्स की कितनी भी कॉपियां क्यो ना बना ले। लेकिन वह ओरिजिनल चीज उसके मालिक के पास ही रहेगी।

उम्मीद हैं, अब आप Non - fungible token का मतलब समझ गए होंगे। किसी भी NFT का एक समय मे एक ही मालिक हो सकता हैं। Nft का डेटा ब्लॉकचैन में संग्रहित होता है। जिसके कारण इसमें कोई फेरबदल नही किया जा सकता हैं। फिलहाल NFTs Ethereum के ब्लॉकचैन पर हैं।

आज वे लोग जो कोई यूनिक, क्रिएटिव आर्ट, फोटो, वीडियो आदि डिजिटली बना सकते हैं। वे उनके NFTs बनाकर मॉनिटाइज कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें:- इंस्टाग्राम पर फॉलोवर्स कैसे बढ़ाएं?


क्रिप्टो करेंसी और NFT में क्या अंतर हैं?

Nft और क्रिप्टो करेंसी को लेकर लोगो में इन दोनों के बीच अंतर को लेकर कन्फ्यूजन होता हैं। वे Crypto Currency और NFT को एक जैसा ही समझते हैं, लेकिन ये बिल्कुल भी सही नही हैं। इन दोनों के बीच काफी अंतर हैं। चलिये इसे समझते हैं।

1. क्रिप्टो करेंसी एक डिजिटल असेट्स हैं, लेकिन NFT एक यूनिक डिजिटल असेट्स हैं।

2. क्रिप्टोकरेंसी में जैसे बिटकॉइन को ही ले लीजिए। एक BitCoin को हम दूसरे एक BitCoin से आसानी से बदल सकते है। ऐसा इसलिए क्योंकि दोनों की वैल्यू समान ही हैं। जिसके कारण हम इन्हें रिप्लेस कर सकते हैं।      

लेकिन NFT में ऐसा नही हो सकता हैं, क्योंकि प्रत्येक NFT खुद में यूनिक होती है। हर NFTs की अपनी अलग ही वैल्यू होती है। जिस कारण हम एक NFT को किसी दूसरे Nft से रिप्लेस नही कर सकते हैं।

3. क्रिप्टोकरेंसी जैसे बिटकॉइन को हम टुकड़ो ( 0.1 या 0.0007 BitCoin) में खरीद सकते सकते है। लेकिन NFT को समूचा ही खरीदा जा सकता हैं, क्योंकी इसके एक समय पर एक ही मालिक हो सकते हैं। NFT को टुकड़ो में विभाजित करने पर इसकी यूनिकनेस समाप्त हो सकती हैं।

ये भी पढ़े:- मोबाइल का बैटरी फटने से कैसे बचाये?


क्रिप्टो करेंसी और NFT में क्या समानता हैं?

दोस्तो, आपने Crypto Currency और NFT में अंतर जान लिया। लेकिन इन दोनों के बीच कुछ समानताएँ भी हमे देखने को मिलती हैं। वे समानताएँ क्या हैं, चलिये समझते हैं।

1. क्रिप्टो करेंसी और NFT दोनों ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर आधारित हैं। जिसमे इनका डेटा एक ब्लॉक से दूसरे ब्लॉक से क्रम में चैन में ट्रांसफर होता हैं।

2. क्रिप्टो करेंसी और NFT दोनों डिजिटल असेट्स हैं। जिस कारण ये वर्चुअल हैं। इसे सिर्फ देखा (या म्यूजिकल NFT को सुना) जा सकता हैं। इसे स्पर्श नही किया जा सकता हैं।

3. इंटरनेट पर लोग क्रिप्टो करेंसी और NFT को एक अच्छा इन्वेस्टमेंट के उद्देश्य से भी खरीद सकते हैं।

4. बदलते इंटरनेट की दुनिया के भविष्य में Cryptocurrency और NFT की महत्वपूर्ण भूमिका हैं।

ये भी पढ़ें:- पीडीएफ फ़ाइल कैसे बनाये?


कुछ प्रसिद्ध NFTs की कीमत

Nft पर जब हम चर्चा कर ही रहे हैं। तो आप भी कुछ ऐसे nft के बारे में जानने को जरूर उत्सुक होंगे। जो महँगी कीमतों पर बिक चुकी हैं।

1. एक 10 सेकण्ड की वीडियो क्लिप की NFT जो $6.6 मिलियन में बिकी है। जो भारतीय रुपये में लगभग 48 करोड़ रुपये होता हैं।

2. अमेरिकी डिजिटल आर्टिस्ट Mike Winkelmann जिन्हें लोग Beeple के नाम से जानते हैं, उनका एक डिजिटल आर्ट “Everydays: the First 5000 Days” NFT के रूप में $69 मिलियन (यानी लगभग 5 अरब रुपये) में बिकी।

3. Jack Dorsey जो ट्विटर के फाउंडर हैं, उनकी Twitter पर पहली ट्वीट “just setting up my twttr” NFT के रूप में $2.9 मिलियन ( करीब 22 करोड़ रुपये) में बिकी।


NFT Buy और Sell कहाँ करें?

Non fungible token Meaning in Hindi में जानने के बाद भी आपके मन मे एक सवाल अवश्य आया होगा, की NFT को Buy और Sell कहाँ पर करें?

तो इसके लिए इंटरनेट पर कुछ Popular NFT Market Places हैं। जैसे OpenSea, Rarible, NiftyGateway, Foundation, SuperRare इत्यादि हैं। आप ऑनलाइन यहाँ जाकर NFT को खरीद और बेच सकते हैं।

ये भी पढ़ें:- Paytm से Mobile रिचार्ज करे।


NFTs से जुड़े पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

NFT का Full Form क्या हैं?

NFT का Full form " Non-fungible token " होता है। हिंदी में Nft का फुल फॉर्म " अपूरणीय टोकन" होता हैं।

एनएफटी कैसे काम करता है?

NFT एक डिजिटल यूनिक असेट्स है। जो नॉन फंजिबल होता है। यानी इसे किसी अन्य चीजो से बदला नही जा सकता हैं। वे फोटो, वीडियो, Gif, डिजिटल आर्ट जो यूनिक होती है। इसका NFT बनाकर इसके मालिक NFT मार्केटप्लेसेस पर बेच सकते हैं। एनएफटी भी क्रिप्टोकरेंसी की तरह ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर आधारित हैं।

ये भी पढ़े:- गाड़ी के नंबर से मालिक का नाम पता करे।


आपने क्या सीखा [Conclusion]

तो दोस्तों, हमे उम्मीद हैं, आपको आज का यह लेख NFT क्या हैं? और बिटकॉइन और NFT में क्या अंतर हैं? अवश्य पसंद आया होगा। NFT के आने से डिजिटल आर्टिस्ट जो डिजिटली कुछ ऐसे Creative और Unique आर्ट्स बनाते हैं। वे अब NFT Sell करके अपनी कमाई कर सकते हैं।

Artist द्वारा इन NFT के एक बार Sell करने के बाद भी कुछ % की रॉयलटी मिलती रहती हैं। यानी उनका आर्टवर्क जितनी अलग अलग NFT Buyers को बेचा जाएगा। तो उस प्राइस का कुछ हिस्सा उस आर्टिस्ट को मिलेगा।

NFT के बारे में मैंने आपको यहाँ बेसिक से समझाने का प्रयास किया हैं। तो यह जानकारी आपको पसंद आया तो इस शेयर जरूर करें।


Thank You


SURAJ KUMAR

मेरा नाम सूरज कुमार है, मैं Techfinehelp.in का संस्थापक और लेखक हूँ। मुझे Technology, Internet, Blogging, Tips & Tricks आदि के बारे में सीखना और लोगों को इसके बारे में जानकारी देना अच्छा लगता है। facebook instagram twitter pinterest

Post a Comment

Previous Post Next Post